चंडीगढ़ प्रशासन के तालीबानी फतवा फोटो जर्नलिस्टों के यूटी सचिवालय में प्रवेश की पाबंदी की भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ ने कड़े शब्दों में निंदा की

चंडीगढ 03 जुलाई, 2014:  चंडीगढ़ प्रशासन के तालीबानी फतवा फोटो जर्नलिस्टों के यूटी सचिवालय में प्रवेश की पाबंदी की भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ ने कड़े शब्दों में निंदा की है।

पार्टी के प्रदेश महासचिव चन्द्रशेखर व मीडिया संयोजक रविन्द्र पठानिया ने इस आदेश की निंदा करते हुए कहा कि इस प्रकार के बेतुके आदेशों से प्रशासन के आला अधिकारी लोकतंत्र के चौथे स्तंभ मीडिया की आवाज को दबाने की कोशिश कर रहा है जोकि गलत है। प्रशासन के अधिकारियों को चाहिए कि वह अपनी कमियों को छुपाने की बजाए खुद को सुधारे व सुचारू कार्यप्रणाली की तरफ ध्यान दे। प्रशासन के इस प्रकार के रवैये से ऐसा प्रतीत होता है कि चंडीगढ़ में अफसरों की अपनी मनमर्जी जगजाहिर न हो उसके लिए इस प्रकार के आदेश पारित कर मीडिया द्वारा दिखाए जाने वाले सत्य को लोगों की बीच उजागर नहीं होने देना चाहता।

उन्होंने कहा कि प्रशासन के अधिकारियों के इस प्रकार के रवैये से ऐसा लगता है कि वह खुद को प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से भी ऊपर समझने लगे हैं जबकि प्रधानमंत्री कार्यालय की और से प्रशासन के अधिकारियों को स्पष्ट निर्देश है कि वह खुद का और अपना अधीन कर्मचारियों का समय पर दफ्तर पहुंचना सुनिश्चित करें ताकि आम जनता के कामों को समय रहते पूरा किया जा सके परंतु प्रशासन के अधिकारी अपनी गलत आदतों को सुधारने की बजाए दूसरों के सिर इसका ठीकरा फोड़ रहे हैं।

उन्होंने कहा कि लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को इस प्रकार सुरबा का हवाला देकर प्रतिबंधित करना प्रशासन के अफसरों की बुरी मानसिकता को दर्शाता है अत: प्रशासन को इस प्रकार के आदेश को तुरंत प्रभाव से वापिस लेना चाहिए।