प्रैस विज्ञप्ति – चंडीगढ़ 11 अप्रैल, 2015

भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ का एक प्रतिनिधिमंडल एस.एस.पी. सुखचैन सिंह गिल से मिला तथा उन्हें कालोनी नं. 4 में हुए मासूम बच्ची के साथ घृणित बलात्कार तथा बर्बर हत्या के मामले में त्वरित कार्यवाही करने हेतु ज्ञापन दिया।

प्रतिनिधिमंडल में प्रदेश उपाध्यक्ष श्री सतप्रकाश अग्रवाल, महासचिव प्रेम कौशिक, भाजपा पार्षद दल के नेता अरुण सूद, पार्षद सतीश कैंथ, जिला अध्यक्ष शक्ति प्रकाश देवशाली, रविकांत शर्मा, देवी सिंह, जिला महासचिव मनीष भसीन, मंडल अध्यक्ष शिलानाथ, मुकेश राय आदि शामिल थे।

पार्टी नेताओं ने एस.एस.पी. को बताया कि यदि 10 अप्रैल को स्थानीय एस.एच.ओ. ने बच्ची के गुम होने की शिकायत मिलते ही तुरन्त कार्यवाही की होती तो ऐसे हालात न पैदा होते।  पुलिस ने स्थानीय लोगों के रोष को ठंडा करने की बजाय उन्हें बल-प्रयोग से तितर-बितर करने की कोशिश की।  पुलिस द्वारा शीघ्र कार्यवाही न करने के कारण ही जनता में रोष बढ़ता गया तथा उसका परिणाम पुलिस तथा जनता के बीच संघर्ष के रूप में हुआ।

पार्टी नेताओं द्वारा एस.एस.पी. के संज्ञान में यह भी लाया गया कि मौके पर शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे लोगों को पुलिस ने बर्बरतापूर्वक लाठीचार्ज करके भगाया।  उन्होंने मांग की कि बर्बरतापूर्वक जनता को पीटने वाले पुलिसकर्मियों के खिलाफ भी कार्यवाही की जाए।

पार्टी नेताओं ने कहा कि पुलिस को पूरे मामले की गंभीरता को देखते हुए निष्पक्ष कार्यवाही करनी चाहिए तथा किसी भी व्यक्ति को अनावश्यक परेशान न करते हुए दोषियों को गिरफ्तार करना चाहिए ताकि जनता का पुलिस में विश्वास कायम हो सके।

पार्टी नेताओं ने इस बात पर भी हैरानी व्यक्त की कि अखबारों में छपी खबरों के अनुसार पार्टी के पार्षद श्री सतीश कैंथ पर पुलिस ने बेवजह मामला दर्ज कर लिया जबकि सतीश कैंथ ने मौके को संभालने हेतु पूरा प्रयास किया तथा प्रदर्शनकारियों को शांत करने में भी पुलिस की सहायता की।

एस.एस.पी. श्री सुखचैन सिंह गिल ने प्रतिनिधिमंडल को आश्वासन दिया कि वे पूरे मामले में गंभीरतापूर्वक छानबीन कर रहे हैं तथा पुलिस बहुत शीघ्र ही मामले की तह तक पहुंच जाएगी।  उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि किसी भी मासूम व्यक्ति को तंग नहीं किया जाएगा।