प्रैस-विज्ञप्ति – चंडीगढ़ ०३ सितंबर, २०१४

चंडीगढ़ 0०३ सितंबर, २०१४: भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ के महासचिव प्रेम कौशिक के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल चंडीगढ़ वासियों की समस्याओं को लेकर चंडीगढ़ वि8ा सचिव सर्वजीत सिंह व सलाहकार के.के. शर्मा से मिला और ज्ञापन सौंपा।

प्रतिनिधिमंडल में महासचिव प्रेम कौशिक के साथ चंडीगढ़ के गेस्ट टीचर्स के अध्यक्ष राजबीर सिंह व प्रवीण कुमार गेस्ट टीचर्स की समस्याओं को लेकर वि8ा सचिव सर्वजीत सिंह से मिले और उन्हें गेस्ट टीचर्स की समस्या से अवगत करवाते हुए बताया कि पिछले कई वर्षों से गेस्ट टीचर्स की मासिक वेतन में कोई बढ़ोतरी नहीं हुई है जबकि दूसरे टीचर्स की भांति यह टीचर्स भी पूरी मेहनत व लगन से बच्चों को शिक्षा देते हैं। प्रतिनिधिमंडल ने मांग करते हुए कहा कि इनकी समस्या का जल्द से जल्द समाधान करवाया जाए।

इसके पश्चात महासचिव प्रेम कौशिक, पूर्व मंडल अध्यक्ष त्रिलोकी नाथ और मनोज कुमार से साथ मिलकर बापू धाम कालोनी की समस्याओं को लेकर वि8ा सचिव से मिले। उन्होंने बताया कि चंडीगढ़ प्रशासन द्वारा बापू धाम कालोनी वासियों को ५ सित6बर को कालोनी तोडऩे का नोटिस दिया गया है। जिस कारण कालोनी वासियों की मुश्किले बढ़ गई हैं। 1योंकि अभी तक कालोनी वासियों को मकान अलाट नहीं हुए, जबकि अलाटमेंट की प्रकिया आरंभ हो चुकी है। उन्होंने मांग की कि जब तक कालोनी वासियों को मकान अलाट नहीं हो जाते, तब तक के लिए कालोनी को तोडऩे का कार्य स्थगित कर दिया जाए।

वि8ा सचिव सर्वजीत सिंह ने दोनों समस्याओं को सुनने के बाद आश्वासन देते हुए कहा कि गेस्ट टीचर्स की समस्या का समाधान इसी सप्ताह में करवायेंगे और बापू धाम कालोनी को तोडऩे के कार्य को रूकवाने के लिए डी.सी. से बात करके इसका भी समाधान करवायेंगे।

इसके उपरांत महासचिव प्रेम कौशिक के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल मौली जागरां की समस्या को लेकर चंडीगढ़ प्रशासक के सलाहकार के.के. शर्मा से मिला और उन्हें मौली जागरां में रहने वाले लोगों की समस्या से अवगत करवाया।

प्रतिनिधिमंडल ने बताया कि मौली जागरां में जो पंचायती जमीन है उसका क4जा लेने के लिए जमीन पुरी 2ााली है लेकिन उसकी निशानदेही न करवाने के कारण पंचायती जमीन कम आंकी जा रही है, जबकि वांछित जमीन पूर्ण है। इसके अतिरि1त कुछ गलत लोगों द्वारा पंचायती जमीन को छोटे-छोटे प्लाट के रूप में बेचा गया तथा अफसरों की मिली भगत से रजिस्ट्रीयाँ करवाई गई। उन लोगों पर कोई कार्यवाही नहीं की जा रही। जबकि जायज लोगों को मकान तोडऩे का नोटिस दिया गया है। प्रतिनिधिमंडल ने मांग की कि इस पंचायती जमीन की निशानदेही करवाई जाए तथा गलत रजिस्ट्रीयों की जांच करवाई जाए।

सलाहकार के.के. शर्मा ने समस्या को सुनने के पश्चात आश्वासन दिया कि जल्द ही डी.सी. से बात करके पंचायती जमीन कर निरक्षण करवाया जाएगा और जमीन की निशानदेही करवाई जाएगी।