सतपुरुष सद्गुरू कबीर जी के 617वां प्रकाश उत्सव

चंडीगढ़ 28 जून, 2015: सद्गुरू कबीर ऐजुकेशनल एंड चेरिटेबल ट्रस्ट ‘रजि.Ó द्वारा सैक्टर 37 स्थित डा. अम्बेडकर भवन में सतपुरुष सद्गुरू कबीर जी के 617वां प्रकाश उत्सव पर ट्रस्ट के संस्थापक हुकम चंद खुंडिया की अध्यक्षता में कबीर भजन का आयोजन किया गया। जिसमें भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ के प्रदेशाध्यक्ष संजय टंडन मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित हुए।

इस अवसर पर प्रदेशाध्यक्ष संजय टंडन ने कहा कि सद्गुरू कबीर जी ऐसी शख्शियत थे जिन्होंने कभी शास्त्र नहीं पढ़ा था फिर भी वह ज्ञानियों की श्रेणी में शामिल हैं। कबीर एक ऐसा नाम है जिसे हम फकीर भी कह सकते हैं और समाज सुधारक भी। उनकी वह पहचान है जिन्होंने जाति-वर्ग की दिवार को गिराकर अद्धुत संसार की कल्पना की। उनका तो व्यक्तित्व अनुकरणीय था। वह हर तरह की कुरीतियों का विरोध करते थे। वह साधु-संतों और सूफी-फकीरों की संगत तो करते थे लेकिन धर्म के ठेकेदारों से दूर रहते थे। उनकी वांणी बहुरंगी है उन्होंने किसी ग्रथ की रचना नहीं की। लेकिन उनकी वांणी ने उनको सर्वपरि बना दिया।

श्री टंडन ने कबीर भजन का आयोजन करने पर सद्गुरू कबीर ऐजुकेशनल एंड चेरिटेबल ट्रस्ट के सभी सदस्यों की सराहना की। उन्होंने कहा कि यह बहुत नेक कार्य है ऐसे सामाजिक कार्यों से हम अपनी जमीन से जुड़े रहते हैं और समय-समय पर युवा पीढ़ी को भी इसका बोध करवाते रहना चाहिए ताकि वह भी अपनी जमीन से जुड़े रहे।

हुकम चंद खुंडिया ने बताया कि सद्गुरू कबीर साहिब के प्रकाश उत्सव पर निम्न कार्यक्रम अनुसार भक्तों द्वारा कबीर भजनों का आयोजन किया गया। भिन्न भिन्न जगहों से कबीर भजन मंडलियाँ ने कबीर शब्दों से संगत को सम्होहित किया। संत महात्माओं द्वारा सद्गुरू कबीर साहिब की वाणी एवं विचार धारा पर प्रकाश डाला। उन्होंने समस्त ट्रस्ट के सदस्यों की ओर से प्रदेशाध्यक्ष संजय टंडन का कार्यक्रम में आने का विशेष रूप से धन्यवाद प्रकट किया।