प्रैस-विज्ञप्ति – चंडीगढ़ ७ नव6बर, २०१४

भारतीय जनता पार्टी चंडीगढ़ के प्रदेशाध्यक्ष संजय टंडन और महासचिव प्रेम कौशिक चंडीगढ़ के कांट्रे1ट व गेस्ट टीचरर्स की समस्याओं को लेकर शिक्षा सचिव सर्बजीत सिंह से मिले।

प्रदेशाध्यक्ष संजय टंडन ने शिक्षा सचिव सर्बजीत सिंह को बताया कि शिक्षा विभाग के द्वारा टीचर्स की रि1ितयाँ भरने के लिए ज्ञापन दिया है, जिसके अनुसार आवेदकों को परीक्षा देनी होगी। परन्तु जो टीचर्स पिछले कई वर्षों से कांट्रे1ट व गेस्ट टीचर्स कार्य कर रहे हैं, जिनमें से अधिकतर टीचर्स की उम्र ४४ वर्ष से अधिक हो गई है। इसलिए इस उम्र में उनको परीक्षा पास करना असंभव होगा।

इसके अतिरि1त अध्यापक का आवेदन देने के लिए योग्यता टेस्ट का पास होना आवश्यक होता है जोकि उपरो1त टीचर्स ने योग्यता टेस्ट पास नहीं किया हुआ है। इसी प्रकार से उस समय अध्यापक की नियु1ित के लिए स्नातक एवं बीएड में किसी प्रकार के प्रतिशत की शर्त नहीं होती थी। जबकि अब ४५ से ५० प्रतिशत की शर्त रख दी गई है। उन्होंने बताया कि और भी ऐसे कई समस्याऐं है जिसके कारण कांट्रे1ट व गेस्ट टीचर्स शिक्षा विभाग द्वारा लागू की गई शर्तों को पूरा नहीं कर पायेंगे और इसीलिए वह परीक्षा में नहीं बैठ पायेंगे।

उपरो1त वर्नित सभी कठनाईयों को ध्यान में रखते हुए प्रदेशाध्यक्ष श्री टंडन ने अनुरोध किया कि प्रशासन द्वारा अन्य राज्यों की उदाहरण को देखते हुए कोई ऐसी पॉलिसी बनानी चाहिए जिससे इन सभी अध्यापकों की सेवायें एक मुश्त में नियमित कर दी जायें। 1योंकि सभी अध्यापकों की प्रतिभा जो प्रशासन के खर्च से ४ वर्ष से लेकर १४ वर्ष की सेवाओं के पश्चात बनी है, उसका सद्उपयोग विद्यार्थियों पर किया जा सके। 1योंकि जो नए अध्यापक नियु1त होंगे उनको यह प्रतिभा प्राप्त करने के लिए इसी प्रकार से कई विद्यार्थियों पर लगाने पड़ेंगे।
शिक्षा सचिव सर्बजीत सिंह ने संजय टंडन द्वारा बताई गई सभी समस्याओं सीधांतिक तौर पर सहमति प्रकट की और आश्वासन देते हुए कहा कि जल्द इन सभी समस्याओं पर गौर किया जाएगा और समय रहते समाधान भी करवाया जाएगा।